HomeMadhya Pradesh

शहडोल: जनपद पंचायत बुढार सीईओ बने विकास में बाधा


शहडोल। जनपद पंचायत बुढार के अंतर्गत ग्राम पंचायत झिरिया है जिसका एक अनोखा समाचार देखने को मिल रहा है जैसे कि वर्षों से आयुष विभाग के द्वारा आयुष औषधालय बनाने के लिए रुपए 613000 स्वीकृत हुई है लेकिन आज दिनांक तक आयुष औषधालय की भवन नहीं बना है और यह भवन ना बनने से ग्राम वासियों को आयुष औषधालय का लाभ नहीं मिलता है इसके बारे में आयुष के आला अधिकारियों से संपर्क किया गया तो उनके द्वारा बताया गया कि हमारे यहां से पैसा सैंक्शन होकर जनपद पंचायत बुढार चला गया है। सीईओ के द्वारा लेट किया जा रहा है तो इसमें हमारी क्या गलती है। दुख तो इस बात की है की इस बारे में जब सीईओ जनपद बुढार को फोन के द्वारा संपर्क करने की कोशिश किया गया तो घंटी जाने के बाद भी फोन नहीं उठाया गया । जब मिलने के लिए साहब के ऑफिस जाया गया तो साहब के द्वारा कहा जाता है कि अभी नहीं बाद में आइएगा अभी मैं बड़ा बिजी हूं साहब किस चीज में बिजी रहते हैं यह तो इनके पंचायतों में घूमने से पता चलता है कि ग्राम वासियों को कितना ईमानदारी के साथ लाभ मिलता है या नहीं मिलता है यह किसी से छिपा नहीं है यहां तक की महोदय जी के द्वारा दोषी पाए जाने पर भी दोषियों के दोष को छिपाने का प्रयास किया जाता है और यह सब अधिकारियों के मेहरबानी से होता हैं। सूत्रों के द्वारा बताया गया कि आयुष औषधालय वाले मामले में सीओ साहब का कहना है हमें न्यू निर्माण के लिए नहीं कहा गया है हमारे पास जो दस्तावेज है उसमें मरम्मत और उन्नयन की बात किया गया है जिसमें हमें सिर्फ 50000 खर्च करने की अनुमति है इससे ज्यादा नहीं। हम अपने पाठकों को बताना चाहते हैं की सीओ साहब आयुष अस्पताल के लिए क्या अपने जेब से पैसा दे रहे हैं या फिर अपने विभाग से पैसा दे रहे हैं यह बात सबके समझ से परे हैं जब पैसा आयुष विभाग दे रहा है सिर्फ आपको एजेंसी बनाया गया है उसके बावजूद भी आपके द्वारा इस तरह से बात किया जाता है यह तो समझ से परे हैं जबकि ग्राम पंचायत झिरिया में जो भवन बनी हुई थी वह एकदम धरा शाही हैं ना कोई भवन है ना कोई अच्छा से घर है अब डॉक्टर भी जाए तो कहां जाए कहां बैठे दवाइयां कहां रखा जाए औषधालय भवन ना होने से ऐसी कई समस्याएं बनी हुई है ।उसके मरम्मत के लिए अगर सीओ साहब को इतना चिंता था तो कई वर्षों से वह भवन धरा शाही है तो आप के द्वारा ₹50000 लगाकर मरम्मत करवाया ज सकता था लेकिन आपके द्वारा नहीं कराया गया जब आयुष विभाग के द्वारा औषधालय भवन निर्माण के लिए पैसा दिया जा रहा है उसमें भी आप हस्तक्षेप कर रहे हैं यह सब क्या है इससे समाज को क्या संदेश देना चाहते हैं आप । यह सब समझ से परे है आज सिर्फ चारों तरफ करप्शन के अलावा कुछ नहीं दिख रहा है और इसके पीछे कहीं ना कहीं शासन की कमजोरी के कारण हो रहा हैं

RECOMMENDED FOR YOU

Loading...
Enable Notifications    OK No thanks