HomeBusiness

Bisleri Deal: 30 साल पुरानी बिसलेरी टाटा की होगी…

Bisleri Deal: 30 साल पुरानी बिसलेरी टाटा की होगी…



सॉफ्ट ड्रिंक ब्रांड थम्स अप, गोल्ड स्पॉट लिम्का, कोका-कोला को बेचने के लगभग तीन दशक बाद रमेश चौहान बिसलेरी इंटरनेशनल  को टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट्स लिमिटेड में अनुमानित 6,000 से 7,000 रुपये करोड़ में बेच रहे हैं। डील के तहत मौजूदा मैनेज्मेंट दो साल तक जारी रहेगा। 82 वर्षीय चौहान की हेल्थ हाल के दिनों में ठीक नहीं है और उनका कहना है कि बिसलेरी को विस्तार के अगले लेवल पर ले जाने के लिए उनके पास उत्तराधिकारी नहीं है। चौहान ने कहा, बेटी जयंती कारोबार में ज्यादा दिलचस्पी नहीं रखती। बिसलेरी भारत की सबसे बड़ी पैकेज्ड वॉटर कंपनी है।

चौहान ने कहा कि टाटा ग्रुप इसका और भी बेहतर तरीके से पालन पोषण और देखभाल करेगा, हालांकि बिसलेरी को बेचना अभी भी एक दर्दनाक फैसला था। वैसे बिसलेरी को लेने के लिए रिलायंस रिटेल, नेस्ले और डेनोन सहित कई कंपनियों की हाथ पांव मारे थे। टाटा के साथ बातचीत दो साल से चल रही थी और उन्होंने कुछ महीने पहले टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन और टाटा कंज्यूमर के सीईओ सुनील डिसूजा से मुलाकात के बाद अपना मन बना लिया था। बिसलेरी मूल रूप से एक इटालियन ब्रांड था जिसने 1965 में मुंबई में भारत में दुकान स्थापित की थी। चौहान ने 1969 में इसे अधिग्रहित किया था। कंपनी के 122 ऑपरेशनल प्लांट हैं और भारत और पड़ोसी देशों में 4,500 डिस्ट्रीब्यूटर्स और 5,000 ट्रकों का नेटवर्क है।

ईटी की रिपोर्ट के अनुसार टाटा ग्रुप ने बिसलेरी के लिए 12 सितंबर को ऑफर दिया था। कारोबार बेचने के बाद चौहान को अल्पसंख्यक हिस्सेदारी रखने का कोई मतलब नजर नहीं आ रहा है। उन्होंने कहा कि जब मैं शो नहीं चला रहा हूं तो मैं इसका क्या करूंगा? बोतलबंद पानी के कारोबार से बाहर निकलने के बाद, चौहान का इरादा पर्यावरण और धर्मार्थ कारणों जैसे जल संचयन, प्लास्टिक रीसाइक्लिंग और गरीबों को चिकित्सा उपचार प्राप्त करने में मदद करने पर फिर से ध्यान केंद्रित करना और निवेश करना है।

कोका-कोला ने 1993 में चौहान और उनके भाई प्रकाश से एयरेटिड ड्रिंक्स का पूरा पोर्टफोलियो खरीदा। जिसमें सिट्रा, रिमज़िम और माज़ा जैसे ब्रांड शामिल थे। टाटा कंज्यूमर फास्ट-मूविंग कंज्यूमर गुड्स (एफएमसीजी) स्पेस में अग्रेसिव है और इस क्षेत्र में टॉप तीन में शामिल होने का लक्ष्य है। यह हिमालयन ब्रांड के तहत पैकेज्ड मिनरल वाटर के साथ-साथ टाटा कॉपर प्लस वॉटर और टाटा ग्लूको+ भी बेचता है। बिसलेरी को हासिल करने से यह इस सेगमेंट में नंबर 1 पर पहुंच जाएगा।

चौहान ने कहा कि डील सिर्फ पैसों की नहीं थी। “यहां तक ​​​​कि मुझे नहीं पता कि मैं इसके (पैसे) के साथ क्या करूंगा, लेकिन मैं इसे स्पष्ट कर दूं। उन्होंने कहा कि मैं ऐसे लोगों की तलाश में था जो इसका ख्याल रखें। इस कारोबार को मैंने काफी जुनून के साथ बनाया है और इसके कर्मचारियों ने भी उसी जुनून के साथ काम किया है। चौहान ने सीईओ एंजेलो जॉर्ज की अध्यक्षता वाली एक पेशेवर टीम को दिन-प्रतिदिन का प्रबंधन सौंप दिया है। चौहान ने कहा कि वित्त वर्ष 23 के लिए बिसलेरी ब्रांड का कारोबार 220 करोड़ रुपये के लाभ के साथ 2,500 करोड़ रुपये होने का अनुमान है।



Get Business News in Hindi, share market (Stock Market), investment scheme and other breaking news on related to Business News, India news and much more on Nishpaksh Mat. Follow us on Google news for latest business news and stock market updates.

google news

RECOMMENDED FOR YOU

Loading...