HomeWorldInternational

अस्पतालों में जमीन पर पड़े मरीज, मुर्दाघर पटे पड़े; चीन में यूं कोहराम मचा रहा कोरोना

अस्पतालों में जमीन पर पड़े मरीज, मुर्दाघर पटे पड़े; चीन में यूं कोहराम मचा रहा कोरोना




 बीजिंग 

चीन में कोरोना संक्रमण ने तूफानी रफ्तार पकड़ ली है। रिपोर्ट्स के मुताबिक एक हफ्ते के अंदर ही 10 हजारो लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं अस्पतालों और श्मशानों की हालत देखकर दिल दहल जाता है। चीन के अस्पातलों के कई वीडियो सोशल मीडिया पर  वायरल हो रहे हैं। जिनमें साफ देखा जा सकता है कि अस्पताल मरीजों से पटे पड़े हैं और चिकित्सा सुविधाएं कम पड़ गई हैं जिसके चलते जमीन पर पड़े-पड़े ही लोगों की जान निकल जाती है। वहीं बात करें चीनी सरकार की तो वह अपनी कमियां और कोरोना के आंकड़े छिपाने में पड़ी है। 

सोशल मीडिया पर तैर रहे वीडियो में देखा जा सकता है कि मरीजों क जमीन पर लिटाकर सीपीआर दिया जा रहा है। वहीं वॉर्ड में इतनी संख्या में मरीजों के चलते डॉक्टरों का भी दम घुट रहा है। वीडियो में देखा जा सकता  है कि जमीन पर लिटाकर ही लोगों  को सीपीआर देकर उनकी जान बचाने की कोशिश की जा रही है। वेंटिलेटर और अन्य सुविधाओं का टोटा हो गया है। वहीं एक दूसरा वीडियो भी वायरल हो रहा है जिसमें एक डॉक्टर गश खाकर जमीन पर गिर पड़ता है। 

जनता और हालात दोनों के दबाव में चीनी सरकार
चीन की सरकार इस समय आगे कुआं पीछे खाईं की स्थिति में है। एक तरफ जब उसने जीरो कोविड पॉलिसी लागू की तो जनता ने जमकर विरोध किया और सरकार को जनता की मांगों के आगे घुटने टेकना पड़ा। दूसरी तरफ स्थिति अब इतनी भयावह हो गई है कि सारी व्यवस्थाएं नाकाम साबित हो रही हैं। चीन ना तो तेजी से वैक्सिनेशन करवा पा रहा है और ना ही लोगों को चिकित्सा सेवाएं दे पा रहा है। अस्पतालों की यह हालत तब है जबकि चीन ने कोरोना संक्रमित लोगों को तब तक अस्पताल ना जाने को कहा है जब तक उनकी हालत गंभीर नहीं हो जाती। 
 

आंकड़े छिपा रहा चीन
चीन की सरकार इस आपाधापी में चिकित्सा सेवाओं का विस्तार भी नहीं कर पा रही है। हालांकि कई जगहों पर आईसीयू को बढ़ाने का आदेश दिया गया है। दूसरी तरफ चीन रोज मिलने वाले कोरोना केस और मौत के आंकड़े छिपा रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक चीन में 286376 कोरोना के केस हैं। हालांकि हालात देखकर लगता है कि आंकड़े सही नहीं हैं। वहीं बीजिंग का कहना है कि 20 दिसंबर को किसी की भी कोरोना से मौत नहीं हुई है। चीन की सरकार का कहना है कि जिनकी मौत कोविड की वजह से सांस की दिक्कत होने से होगी उनकी गिनती ही कोविड से होने वाली मौत में की जाएगी। 

श्मशानों में नहीं मिल रही जगह
चीन में मौतों का आंकड़ा यह है कि वहां शवों के अंतिम संस्कार की भी जगह नहीं मिल रही है। श्मशान के आगे लंबी कतारें हैं। लोगों को दो से तीन दिन का इंतजार करना पड़ रहा है। इसके अलावा शवगृहों में शव रखने की भी जगह नहीं बची है। ऐसे कई वीडियो और तस्वीरें सोशल मीडिया के जरिए सामने आ रही हैं। 

10 लाख से ऊपर पहुंचने वाला है मौत का आंकड़ा
एक रिपोर्ट के मुताबिक चीन में मरने वालों की संख्या 10 लाख से भी ऊपर जा सकती है। वहीं चीनी सरकार इसके प्रति बहुत ही निष्ठुर है। चीन का मानना है कि जितनी जल्दी संक्रमण का पीक आएगा उतनी ही जल्दी यह खुद सिमटना शुरू हो जएगा। इसीलिए चीन की सरकार ने छूट दे दी। वहीं चीन की सरकार अपनी जनता को असल मुद्दे से भटकाने के लिए भारत का सहारा ले रही है और एलएसी पर हरकत कर रही है। चीन के अलावा जापान, दक्षिण कोरिया, ब्राजील, जर्मनी, फ्रांस, इटली और ताइवान में भी इन दिनों मौत का आंकड़ा बढ़ा है। 
 


Get all latest News in Hindi (हिंदी समाचार) related to politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and World news in Hindi. Follow us on Google news for latest Hindi News and International news updates.

google news

RECOMMENDED FOR YOU

Loading...