HomeMadhya Pradesh

हजारों लोगों की उपस्थिति में हुआ मातृ पितृ पूजन दिवस एवं आजादी का अमृत महोत्सव

झाबुआ : गत दिवस आदिवासी अंचल इन दिनों संत आशारामजी बापू दिव्या प्रेरणा से प्रति वर्ष की तरह इस वर्ष भी ग्रामीणों अंचल में सत्संग व भंडारे का आयोजन किया जारहे। प्रथम बापजी चित्र पर पूजन कर कार्यक्रम की शुरुआत की रामा महाराज द्वारा ,कार्यक्रम बच्चों में अपने माता पिता के प्रति आदर भाव के उत्तम संस्कारों का सिंचन हो, माता-पिता का अनुभव व आशीर्वाद लेकर उन्नत जीवन की ओर अग्रसर करने हेतु तथा 14 फरवरी को सच्चा प्रेम दिवस मनाने के लिए पूज्य संतश्री के पावन प्रेरणा से पिछले 14 वर्षों से देश विदेश में मातृ पितृ पूजन कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। इस मातृ पितृ पूजन कार्यक्रम की सराहना पूर्व राष्ट्रपति सहित राज्यों के मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री राज्यपाल आदि अन्य गणमान्य लोगों ने की है। इस कार्यक्रम में ,,युवा सेवा संघ द्वारा ग्राम धाधलपुरा जिला झाबुआ में 14 फरवरी मातृ पितृ पूजन दिवस के निमित्त दिनांक 6 फरवरी को मातृ पितृ पूजन कार्यक्रम संतश्री के कृपा पात्र शिष्य श्री रामा भाई के सानिध्य में मनाया गया। कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्वलित कर वैदिक मंत्रोचार गणेश वंदना व गुरु प्रार्थना से हुई । साईं श्री लीलाशाहजी गुरुकुल अमनकुआ के बच्चों द्वारा आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष में तिरंगा लहराते हुए सांस्कृतिक नृत्य व योगासन प्रस्तुत कर उपस्थित श्रद्धालुओं का मन मोह लिया तथा बच्चों ने अपने माता-पिता को ऊंचे आसन पर बिठाकर तिलक किया फूल मालाएं पहनाई और परिक्रमा पूजा अर्चना की। बच्चे एवं माता पिता पूजन देख विभोर हो गए और माता-पिता की आंखें छलक उठी और उन्होंने बच्चों को गले लगाकर शुभ आशीष दिया। कार्यक्रम की पूर्णाहुति आरती व भोजन प्रसादी के साथ हुई उपस्थित मान्यवरों ने इस कार्यक्रम की भूरी भूरी प्रशंसा की । कार्यक्रम को सफल बनाने में युवा सेवा सघ जिलाध्यक्ष मुकेश मेड़ा,रतन सिंह बिलवाल, पिंजुलाल मेड़ा, मदनसिंह, वसुनिया, कांतिलाल गामड़, गुलाबसिंह, अमलिया, शंकरसिंह, मागु सिंह, उदयसिंह, मंजु सिंह, प्रताप सिंह चौहान एमएस गमार मांजुसिंह सिंह परमार, धर्मेंद्र राठौर, लक्ष्मण भाई , जे एस पालीवाल, नटवर सिंह सोलंकी नवल सिंह चौहान मुकेश भाई चंगोड, सुनील गोयल आजादनगर , प्रताप भाई परमार , कैलाश मेडा, अनवर मावी वेरसिंह भयड़िया , राकेश सिंगाड , सजन सिंगाड , राकेश बामनिया , थानसिंह रावत आदि का सराहनीय योगदान रहा ।

RECOMMENDED FOR YOU

Loading...