HomeIndia

कफ सिरप मामले WHO को भारत ने खूब लताड़ा

कफ सिरप मामले WHO को भारत ने खूब लताड़ा



नईदिल्ली

अफ्रीकी देश गाम्बिया में अक्टूबर में 66 बच्चों की मौत होने की वजह विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत में बनी कफ सिरप को बताया गया था। अब इस पूरे मामले की जांच की रिपोर्ट सामने आई है और भारत ने इन कफ सिरप को पूरी तरह से सही माना है और विश्व स्वास्थ्य संगठन पर हमला बोला है। भारत के ड्रग रेग्युलेटर डीसीजीआई यानी ड्रग्स कंट्रोल जनरल इंडिया की रिपोर्ट में इन कफ सिरप को स्टैंडर्ड क्वॉलिटी का बताया है। यही नहीं डीसीजीआई ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने गाम्बिया में बच्चों की मौत का कफ सिरप से लिंक होने की बात जल्दबाजी में कही थी। दोनों के बीच कोई कनेक्शन नहीं था।

भारतीय रेग्युलटर ने अपने बयान में कहा कि भारत की फार्मा कंपनी मेडन फार्मा के के सैंपल की जांच की गई है। इसमें पाया गया कि कफ सिरप में कोई समस्या नहीं थी और वह पूरी तरह से सही थी। इसी कंपनी की कफ सिरप का गाम्बिया बच्चों की मौत से लिंक जोड़ा गया था, जो पूरी तरह से गलत है। डीसीजीआई के डायरेक्टर डॉ. वीजी सोमानी ने विश्व स्वास्थ्य संगठन के रेग्युलेशन डायरेक्टर डॉ. रोजेरियो गास्पर को लिखे खत में कहा कि अक्टूबर में आपकी ओर से जो बयान जारी किया गया था, वह गलत था और जल्दबाजी में दिया गया था। उन्होंने WHO को लिखे पत्र में कहा कि आपके गलत निष्कर्ष के चलते दुनिया भर की मीडिया में भारतीय फार्मा सेक्टर के बारे में गलत जानकारी चली।

WHO पर भारत सख्त- आपकी जल्दबाजी से दुनिया में खराब हुई छवि

इससे भारत के फार्मा सेक्टर के उत्पादों की गुणवत्ता के बारे में भी गलत छवि बनी है। यही नहीं भारत की ओर से लिखे पत्र में विश्व स्वास्थ्य संगठन से सख्त भाषा में कहा गया कि आपने बच्चों की मौतों का कनेक्शन जल्दबाजी में कफ सिरप से निकाल लिया। वहीं एक मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि खुद गाम्बिया ने ही माना था कि बच्चों की मौत का कफ सिरप से कोई कनेक्शन साबित नहीं हुआ है। यहां तक कि गाम्बिया की अथॉरिटीज ने यह भी कहा था कि जिन बच्चों की मौत हुई है, उनमें से कई ने तो कफ सिरप पी भी नहीं थी।

फार्मा कंपनी में रुकवा दिया गया था सिरप का उत्पादन

सोमानी ने वैश्विक संस्थान को बताया कि जिन 4 भारतीय कफ सिरप के बारे में सवाल उठाए गए थे, उनकी पर्याप्त जांच की गई है। इस जांच में किसी भी सिरप के दूषित होने की जानकारी सामने नहीं आई है। बता दें कि गाम्बिया में बच्चों की मौत का कफ सिरप से कनेक्शन बताए जाने के बाद भारत में हेल्थ अथॉरिटीज ने मेडन फार्मा की सोनीपत स्थित फैक्टरी में प्रोडक्शन रुकवा दिया था। हालांकि अब जांच में कंपनी को क्लीन चिट मिल गई है और फिर से उत्पादन का काम शुरू हो गया है। फिलहाल भारत की ओर से जताई गई आपत्ति पर विश्व स्वास्थ्य संगठन का कोई जवाब नहीं आया है।

 



Get all latest News in Hindi (हिंदी समाचार) related to politics, sports, entertainment, technology and educati etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and MP news in Hindi. Follow us Google news for latest Hindi News and Natial news updates.

google news

RECOMMENDED FOR YOU

Loading...